Published On: Sat, Nov 30th, 2013

यौन शोषण के आरोपी SC के पूर्व जज गांगुली बोले, ‘लड़की खुद ही मेरे पास आई थी’

Share This
Tags

जो अब तक नहीं कहा गया था, अब कह दिया गया है. इंटर्न वकील से यौन शोषण के आरोपी सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज का नाम सामने आ गया है. नाम है जस्टिस एके गांगुली.

पीड़िता ने चीफ जस्टिस की बनाई जांच समिति के सामने गवाही देते हुए रिटायर्ड जज एके गांगुली का नाम लिया है. पीड़िता का बयान लेकर जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट चीफ जस्टिस पी सदाशिवम को सौंप दी है. गांगुली का नाम हाई प्रोफाइल जजों में शुमार किया जाता रहा है. 2जी घोटाले की जांच भी उनकी निगरानी में हो चुकी है. इस समय पश्‍िचम बंगाल राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष हैं. वह 3 फरवरी 2012 को सुप्रीम कोर्ट के जज पद से रिटायर हुए थे.

गांगुली ने आरोपों को सिरे से नकार दिया है. आरोपों पर हैरानी जताते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं जांच समिति के सामने पेश हुआ और सारे आरोपों से इनकार किया. ऐसा लगता है कि मैं ‘ इंटर्न ने उनके साथ काम किया, लेकिन आधिकारिक रूप से वह उनके साथ काम करने नहीं आई थी. वह एक दूसरी इंटर्न के स्थान पर आई थी जो शादी के बाद विदेश चली गई थी. उन्होंने कहा, ‘मैंने कोई पोस्टर नहीं लगाया था. वह खुद ही आई थी. यह लड़की काम के सिलसिले में कई बार मेरे घर भी आई थी.’

वहीं, होटल के कमरे में लड़की को बुलाने संबंधी आरोप के बारे में उन्होंने कहा कि उस समय काम के सिलसिले में वह दिल्ली में थे और लड़की भी दिल्ली में थी. जज गांगुली के मुताबिक, ‘मुझे पता है कि उसने क्या कहा था. सवाल यह है कि जब मैं दिल्ली में था तो वह भी दिल्ली में थी. वह खुद मेरे पास आई थी.’ उन्होंने आगे कहा, अगर वह मेरे साथ काम करने में असहज महसूस कर रही थी तो वह जाने के लिए आजाद थी.

जज गांगुली 17 दिसंबर, 2008 को सुप्रीम कोर्ट के जज नियुक्त हुए थे. कानून की इस इंटर्न के आरोपों की जांच के लिए गठित जजों की समिति ने 13 से लेकर 27 नवंबर तक अपनी बैठकें की थी. इन बैठकों में इंटर्न का बयान दर्ज किया गया. इंटर्न ने तीन हलफनामे भी पेश किए थे.चीफ जस्टिस ने 12 नवंबर को इस समिति का गठन किया था. समिति में जज लोढा के साथ जज एचएल दत्तू और जज रंज ना प्रकाश देसाई भी शामिल थी.

‘वह मेरे बच्‍चे की तरह थी’
जज गांगुली ने कहा कि इंटर्न उनके बच्चे की तरह थी और उन्होंने उसके प्रति वैसा ही व्यवहार किया. यह पूछे जाने पर कि क्या तीन जजों की समिति उनके खिलाफ कड़ी टिप्पणी करेगी, उन्होंने कहा, ‘मैं नहीं जानता किस प्रकार की कटु टिप्पणी होगी. जनता में मेरा भरोसा है और जनता मेरे आचरण और न्यायिक कार्य से मेरा आकलन करेगी.’ जज गांगुली ने कहा कि अगर यह सिलसिला जारी रहा तो जजों के लिए काम करना दुश्‍वार हो जाएगा. यह पूछने पर कि अगर उनसे अपनी बात साबित करने के लिए कहा जाए, उन्‍होंने कहा कि मैं निगेटिव कैसे साबित कर सकता हूं.’

About the Author

- I am an internet marketing expert with an experience of 8 years.My hobbies are SEO,Content services and reading ebooks.I am founder of SRJ News,Tech Preview and Daily Posts.

Composite Start -->
Loading...